Advertisement
Trending News

परमाणु ऊर्जा, खाद और स्पेयर पार्ट्स की डील… जानें- PM मोदी के रूस दौरे से क्या-क्या मिला

Advertisement


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय रूस दौरे पर हैं. वहां सोमवार को उन्होंने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ अनौपचारिक मुलाकात की तो वहीं, आज यानी मंगलवार को पुतिन ने पीएम मोदी को रूस के सर्वोच्च नागरिक सम्मान, ऑर्डर ऑफ सेंट एंड्रयू द एपोस्टल से सम्मानित किया. प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति पुतिन को धन्यवाद दिया. उन्होंने कहा कि यह 140 करोड़ भारतीयों का सम्मान है. यह भारत और रूस के बीच सदियों पुरानी दोस्ती का प्रतिबिंब है. प्रधानमंत्री ने कहा कि यह भारत और रूस के बीच विशेष और विशेषाधिकार प्राप्त साझेदारी का सम्मान है. 

पीएम ने कहा कि पुतिन के नेतृत्व में पिछले 25 वर्षों में भारत और रूस के बीच संबंध मजबूत हुए हैं और हर बार नई ऊंचाइयों को प्राप्त करते रहे हैं. वहीं पीएम मोदी के इस दौरे पर भारत और रूस के बीच कई समझौते हुए हैं. भारत और रूस 2030 तक 100 अरब डॉलर के व्यापार लक्ष्य पर नजर रख रहे हैं. बैठक के बाद विदेश सचिव विनय मोहन क्वात्रा ने कहा दोनों देशों नेका आर्थिक संबंधों पर सबसे ज्यादा फोकस है. 

वहीं पीएम मोदी और राष्ट्रपति पुतिन की मुलाकात के बारे में बताते हुए विनय क्वात्रा ने कहा कि बातचीत में ऊर्जा और उवर्रक की सप्लाई पर पीएम का फोकस रहा.

इन विषयों पर रहा फोकस- 

रूस और भारत के बीच द्विपक्षीय आर्थिक सहयोग विकसित करने की योजना है जिसमें निम्नलिखित प्रमुख क्षेत्र शामिल हैं – 

भारत और रूस के बीच द्विपक्षीय व्यापार से संबंधित गैर-टैरिफ व्यापार बाधाओं को खत्म करने की आकांक्षा. 

ईएईयू-भारत मुक्त व्यापार क्षेत्र की स्थापना की संभावना सहित द्विपक्षीय व्यापार के उदारीकरण के क्षेत्र में बातचीत जारी रखना. 

संतुलित द्विपक्षीय व्यापार को प्राप्त करने के लिए भारत से माल की आपूर्ति में वृद्धि सहित, 2030 तक (पारस्परिक सहमति के अनुसार) 100 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक के पारस्परिक व्यापार की उपलब्धि हासिल करना.

पार्टियों की निवेश गतिविधियों का पुनरोद्धार, यानी विशेष निवेश व्यवस्थाओं के ढांचे के भीतर: 2030 तक की अवधि के लिए रूस-भारत आर्थिक सहयोग के रणनीतिक क्षेत्रों के विकास पर नेताओं का संयुक्त वक्तव्य. 

राष्ट्रीय मुद्राओं का उपयोग करके द्विपक्षीय निपटान प्रणाली का विकास, परमाणु ऊर्जा, तेल शोधन और पेट्रोकेमिकल और विस्तारित रूपों सहित प्रमुख ऊर्जा क्षेत्रों में सहयोग का विकास.

ऊर्जा अवसंरचना, प्रौद्योगिकियों और उपकरणों के क्षेत्र में सहयोग और साझेदारी. 

पारस्परिक और अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा सुरक्षा की सुविधा, यानी वैश्विक ऊर्जा संक्रमण की संभावनाओं को ध्यान में रखना.

युद्ध में फंसे भारतीयों पर भी हुई चर्चा

रूस-यूक्रेन युद्ध में फंसे भारतीयों के बारे में जानकारी देते हुए क्वात्रा ने कहा कि 35 से 50 भारतीय इसमें फंसे हैं. जिनमें से 10 को हम भारत वापस लाने में कामयाब रहे हैं. पीएम ने राष्ट्रपति पुतिन के सामने यह मुद्दा जोरदार तरीके से उठाया है. सभी भारतीयों को जल्द से जल्द वापस लाने की कोशिश की जा रही है. भारतीयों की स्वदेश वापसी पर रूसी पक्ष की ओर से वादा किया गया है.

मासूमों की मौत पर जताया दुख

भारत की ओर से कल शाम हुए मोदी-पुतिन की निजी मुलाकात, रात्रि भोज और आज शिखर वार्ता के दौरान भी भारत ने अपना यह रुख स्पष्टता से रखा. रूसी राष्ट्रपति पुतिन से बातचीत के दौरान पीएम मोदी ने मासूमों की मौत पर चिंता और खेद व्यक्त किया. साथ ही यूक्रेन से चल रहे इस युद्ध के शांतिपूर्ण समाधान खोजने के लिए सभी समर्थन और सहयोग की पेशकश का वादा किया. इस बातचीत के दौरान कई दिलचस्प विचार और नए विचार सामने आए. 

पीएम ने पुतिन से कहा कि भारत हर संभव योगदान देने को तैयार है. इस दौरान परमाणु ऊर्जा, ईंधन आपूर्ति के विषयों पर भी चर्चा हुई. साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि स्पेयर पार्ट्स पर आपूर्ति में तेजी लाने की जरूरत है. साथ ही पीएम मोदी ने जरूरी स्पेयर पार्ट्स बनाने के लिए भारत और रूस के बीच जॉइंट बिजनेस पार्टनरशिप पर भी चर्चा की और इसके प्रोडक्शन में साझेदारी का भी विचार रखा. 

बातचीत में उठा आतंकवाद का मुद्दा

पीएम ने पुतिन से वार्ता के दौरान आतंकवाद का मुद्दा उठाया है. पीएम ने कहा कि आतंकवाद हर देश के लिए खतरा बना हुआ है. साथ ही पीएम ने अपनी बातचीत के दौरान कोरोना काल के वक्त हुई भारत-रूस की पेट्रोल-डीजल डील की भी सराहना की है. साथ ही व्लादिमीर पुतिन ने पीएम मोदी को कजान में ब्रिक्स सम्मेलन के लिए आमंत्रित किया है. ये शिखर सम्मेलन 22 से 24 अक्टूबर को रूस में आयोजित किया जाएगा.

भारत ने किया सफल G20 का आयोजन

नरेंद्र मोदी ने यूक्रेन पर बोलते हुए कहा कि यूक्रेन पर सम्मानजनक तरीके से विचारों का आदान-प्रदान किया गया. भारत ने सफलतापूर्वक जी 20 का आयोजन किया. सभी लोग विश्व में शांति चाहते हैं. मानवता शांति चाहती है. छोटे बच्चों को मारा जाना हृदय विदारक है, यह डरावना है. हमने विस्तार से बात की, जब निर्दोष लोग मरते हैं तो मानवता लहूलुहान हो जाती है. हमें दिल में दर्द महसूस होता है. भावी पीढ़ी के लिए शांति जरूरी है.

पीएम ने कहा कि संघर्ष से मानव के लिए संकल्प भारत-रूस मित्रता के करण में अपने किसानों के लिए  फूड, फ्यूल और उर्वरक प्राप्त करने में सक्षम था. ये सब हमारी दोस्ती की भूमिका के कारण हुआ. हमारे किसानों के प्रति प्रतिबद्धता, रूस भारत सहयोग और बढ़े, आम आदमी को भोजन और ईंधन की मदद मिले. ऐसे समय अपने के सहयोग के चलते पेट्रोल-डीजल की महंगाई से बचाया. दुनियाभर को ये समझना होगा कि भारत-रूस का पेट्रोल-डीजल पर सहयोग सराहनीय है. हमारे इस कारोबार के कारण भारत के लोगों को पेट्रोल डीजल की मार से बचा पाए इसके लिए मैं रूस का धन्यवाद करता हूं.

Advertisement

Syed Sajjad Husain

मैं Syed Sajjad Husain अकोला शहर से इस न्यूज़ वेबसाइट का फाउंडर हूँ. मैं पिछले 5 सालों से पत्रकारिता क्षेत्र में कार्यरत हूँ. मैं इस न्यूज़ वेबसाइट पोर्टल पर Akola News, Latest News, Breaking News, Crime News जगत से जुड़ी खबरें तथा हर प्रकार की खबर निष्पक्षता के साथ आप तक इसे पहुँचाने में सक्षम हूँ.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button