Advertisement
Trending News

हाथरस हादसे के बाद सामने आए सेवादारों के दस्तावेज, ऐसे चलता था ‘भोले बाबा’ का सेक्योरिटी सिस्टम

Advertisement


उत्तर प्रदेश के हाथरस (Hathras) में सत्संग के दौरान हुई भगदड़ में 123 लोगों की मौत हुई. घटना के बाद फरार चल रहा सूरज पाल (नारायन साकार विश्व हरि) ‘बाबा’ की सही लोकेशन का पता नहीं चल पा रहा है. हालांकि, बाबा ने पहले अपने वकील के जरिए मीडिया में एक प्रेस नोट भेजवाया. उसके बाद न्यूज ऐजेंसी के जरिए घटना पर अपना संदेश भी दिया. हादसे में मृतकों के प्रति शोक संवेदना प्रकट की और जो दोषी हों उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की. 

सामने आए सेवादारों के दस्तावेज

hathras stampede

अब बाबा के कुछ ऐसे सेवादारों से जुड़े हुए दस्तावेज सामने आए हैं कि भोले बाबा (नारायन साकार हरि) का चाहे कोई भी छोटा या बड़ा सत्संग समागम हो व्यवस्था चाक चौबंद होती थी. बाबा के सेवादारों की महिला/पुरुष प्लाटून है. उसको सेक्टर दर सेक्टर जिम्मेदारी सौंपी गई है. इसमें शामिल लोगों का एक अटेंडेंस रजिस्टर भी होता है और जो अनुपस्थिति होता है, उसकी समीक्षा की जाती है.

hathras bhole baba

मुख्य सेवादार उसको ऊपर फारवर्ड करता है. उसके बाद किस कारण से अनुपस्थित है, ये भी उस समीक्षा रिपोर्ट में लिखा जाता जाता है. जो सेवादार अनुपस्थित है, उससे संपर्क करके अनुपस्थित होने की वजह जानने के साथ कार्रवाई भी की जाती है. लेकिन हाथरस की इस घटना ने बाबा के सारे सिक्योरटी मैनेजमेंट की धज्जियां उड़ा दी हैं. 

hathras stampede

123 मौतों का दोषी कौन?

चाहे बाबा हो या उनके फॉलोवर्स, इस घटना में साजिश का अंदेशा जता रहे हैं और जो भी इस घटना में दोषी हो उसके खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं. हाथरस की घटना के लिए न तो बाबा अपने को दोषी मान रहे हैं और न ही बाबा के भक्त. तो आखिर इन 123 लोगों की मौत का गुनहगार कौन है?

हाथरस कांड में पकड़े जाने वालों की संख्या 7 हुई

हाथरस में बीते मंगलवार को हुए भगदड़ में 121 लोगों की जान चली गई थी. पुलिस प्रवचनकर्ता बाबा सूरजपाल के सेवादारों और सत्संग के आयोजकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर जांच-पड़ताल कर रही है. 6 लोग पहले ही पकड़े जा चुके हैं, अभी तक मुख्य आरोपी देवप्रकाश मधुकर जो फरार था, उसे शुक्रवार शाम को गिरफ्तार किया गया है.

बाबा का खास है देव प्रकाश मधुकर

बता दें कि, देव प्रकाश मधुकर ही हाथरस कार्यक्रम का मुख्य आयोजक था. इसके साथ ही वह बाबा का खास आदमी भी है. हादसे के बाद बाबा ने उसी से फोन पर काफी देर तक बात की थी. न्यूज एजेंसी के मुताबिक, भगदड़ की घटना के बाद से देवप्रकाश मधुकर घर नहीं लौटा था. उसके परिवार के सदस्य भी लापता हैं. मधुकर के बारे में कहा जाता है कि वह एक समय जूनियर इंजीनियर (JE) था लेकिन बाद में बाबा सूरजपाल का बड़ा भक्त बन गया. देवप्रकाश मधुकर का घर सिकंदरा राऊ इलाके के दामादपुरा की नई कॉलोनी में है.

यह भी पढ़ें: 121 मौत, बाबा फरार… आखिर हाथरस भगदड़ का गुनहगार कौन? अंजना के साथ देखें हल्ला बोल

हाथरस भगदड़ कांड की जांच के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने एक एसआईटी का गठन किया था. जिसने इस मामले में अब तक 90 लोगों के बयान दर्ज किए हैं. यह जानकारी खुद एसआईटी में शामिल आगरा जोन के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक अनुपम कुलश्रेष्ठ ने शुक्रवार की दी.
 

Advertisement

Syed Sajjad Husain

मैं Syed Sajjad Husain अकोला शहर से इस न्यूज़ वेबसाइट का फाउंडर हूँ. मैं पिछले 5 सालों से पत्रकारिता क्षेत्र में कार्यरत हूँ. मैं इस न्यूज़ वेबसाइट पोर्टल पर Akola News, Latest News, Breaking News, Crime News जगत से जुड़ी खबरें तथा हर प्रकार की खबर निष्पक्षता के साथ आप तक इसे पहुँचाने में सक्षम हूँ.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button